इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय में कृषि स्टार्टअप्स के अवसरों पर कार्यशाला आयोजित

रायपुर

इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, रायपुर के रफ्तार एग्री बिजनेस इंक्यूबेटर सेन्टर द्वारा भारतीय राष्ट्रीय कृषि सहकारी विपणन संघ, फेडरेशन ऑफ इंडिया एफ.पी.ओ. एवं एग्रीगेटर्स के संयुक्त तत्वावधान में ‘‘साथी’’ (समग्र एकीकरण के माध्यम से सतत कृषि) परियोजना के क्रियान्वयन के उद्देश्य से कृषि स्टार्टअप्स के लिए बाजार लिंकेज और उद्यमिता के अवसरों की खोज विषय पर कार्यशाला हाइब्रिड मोड में आयोजित की गई।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए संचालक अनुसंधान सेवाएं डॉ. विवेक कुमार त्रिपाठी ने कहा कि स्थानीय एवं राष्ट्रीय स्तर पर रोजगार सृजन में स्टार्टअप्स का महत्पूर्ण योगदान है। उन्होंने स्टार्टअप्स को स्थानीय एवं राष्ट्रीय स्तर की अर्थव्यवस्था में योगदान व रोजगार सृजन के लिए उनके कार्यों की सराहना करते हुए उन्हें बधाईयां दी। इस कार्यक्रम में वैयक्तिक एवं आभाषी रूप से 100 से अधिक स्टार्टअप्स ने हिस्सा लिया एवं साथी परियोजना में अपनी भागीदारी हेतु सहमति जताई।

भारतीय राष्ट्रीय कृषि सहकारी विपणन संघ के प्रतिनिधि मनीष शाह ने साथी परियोजना की विस्तृत जानकारी दी। उन्होनें बताया कि स्टार्टअप्स के लिए इस परियोजना में क्या प्रावधान रखे गए है और स्टार्टअप्स कैसे उनका लाभ ले सकते है। इस परियोजना के अंतर्गत कोण्डागांव में मिलेट कैफे एवं सूरजपुर के केनापारा में साथी मॉल का लोकार्पण शीघ्र होगा। रफ्तार एग्री बिजनेस इंक्यूबेटर के प्रमुख एवं कार्यपालन अधिकारी डॉ. हुलास पाठक ने स्टार्टअप्स के विभिन्न तरीकों पर चर्चा की, जिनसे स्टार्टअप्स एवं उद्यमी अपनी सक्रिस भूमिका निभाते हुए हितग्राही के रूप में जुड़कर बाजार कनेक्शन का विस्तार कर सकें, नौकरियां सृजित कर सकें एवं व्यवसाय, उत्पाद तथा सेवा श्रृखंला को आगे बढ़ाएं, जिससे समग्र कृषि एवं ग्रामीण विकास हो सकेगा।

शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *