महिलाओं के कार्यस्थल पर उत्पीड़न पर एक दिवसीय प्रशिक्षण आयोजित

रायपुर

इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, रायपुर की लैंगिक उत्पीड़न शिकायत समिति द्वारा ‘‘महिलाओं के कार्यस्थल पर उत्पीड़न’’ विषय पर एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के अधिष्ठाता छात्र कल्याण डॉ. संजय शर्मा थे। इस अवसर पर विशिष्ट अतिथि के रूप में कलिंगा विश्वविद्यालय के विधि विज्ञान विभाग की विभागाध्यक्ष सलोनी त्यागी श्रीवास्तव उपस्थित थी। कार्यक्रम की अध्यक्षता कृषि महाविद्यालय रायपुर के अधिष्ठाता डॉ. जी.के. दास ने की।

मुख्य अतिथि की आसंदी से डॉ. संजय शर्मा ने कहा कि किसी भी संस्था के विकास में वहां की महिला कर्मचारियों का बड़ा योगदान रहता है। उन्होंने कहा कि शिक्षा एक बहुत बड़ा हथियार है, जिससे व्यक्ति की मनोदशा में परिवर्तन होता है। डॉ. संजय शर्मा ने विश्वविद्यालय की लैंगिक उत्पीड़न शिकायत समिति को बधाई एवं शुभकामनांए दी कि वे महिलाओं को जागरूक करने हेतु इस तरह के प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन करते हैं। सलोनी त्यागी श्रीवास्तव ने भी प्रशिक्षण कार्यक्रम में उपस्थित प्रतिभागियों को संबोधित किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए डॉ. जी.के. दास ने कहा कि बच्चा लड़की हो या लड़का हो, सभी को प्राथमिक संस्कार समाज की महिलाएं ही देती हैं। बच्चों एवं समाज की प्रगति में महिलाएं महत्वपूर्ण भूमिका अदा करती हैं। इस अवसर पर लैंगिक उत्पीड़न शिकायत समिति की सदस्य डॉ. प्रतिभा कटियार, डॉ. अंबिका टंडन, डॉ.नीता खरे, डॉ. प्रभारानी चौधरी एवं डॉ. शुभा बैनर्जी उपस्थित थी।

कार्यक्रम की प्रस्तावना रखते हुए इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय की लैगिंक उत्पीड़न शिकायत समिति की अध्यक्ष डॉ. (श्रीमती) आरती गुहे ने कहा कि भविष्य की कार्यप्रणाली में प्रशिक्षण बहुत ही उपयोगी होते हैं। उन्होंने कार्यक्रम की विस्तृत रूप-रेखा प्रस्तुत की। तकनीकी सत्र में कलिंगा विश्वविद्यालय के विधि विज्ञान विभाग की सहायक प्राध्यापक पलक शर्मा ने कहा कि स्कूलों में प्रायः महिलाएं प्राथमिक कक्षाओं को पढ़ाती हैं, जिससे बच्चे आत्मीय भावना से प्रेरित होते हैं। समाज में पुरूष को कर्ता-धर्ता अवश्य माना जाता है किन्तु प्रबंधन में महिलाएं अग्रणी होती हैं। तकनीकी सत्र के दौरान विधि संकाय की सहायक प्राध्यापक श्रीमती दर्शी शर्मा गुहे ने भी लैगिंक उत्पीड़न के संबंध में विस्तृत जानकारी दी।

कार्यक्रम का संचालन डॉ. अन्नू वर्मा ने किया। कार्यक्रम के अंत में अतिथियों के प्रति आभार प्रदर्शन लैगिंक उत्पीड़न शिकायत समिति की सचिव डॉ. (श्रीमती) ज्योति भट्ट ने किया। इस अवसर पर इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय में कार्यरत महिला प्राध्यापक, अधकारी एवं कर्मचारी बड़ी संख्या में उपस्थित थी।

शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *