पुरखौती मुक्तांगन में राष्ट्रीय शोध संगोष्ठी सम्पन्न

रायपुर

पुरातत्व अभिलेखागार एवं संग्रहालय रायपुर द्वारा आयोजित तीन दिवसीय राष्ट्रीय शोध संगोष्ठी अंतिम दिन आज संगोष्ठी के प्रतिभागी अध्येताओं ने नवा रायपुर उपरवारा स्थित पुरखौती मुक्तांगन मुक्ताकाशी संग्रहालय का भ्रमण किया। संगोष्ठी प्रभारी डॉ. पी.सी. पारख उप संचालक ने पुरखौती मुक्तांगन मुक्ताकाशी संग्रहालय की स्थापना और पूर्व राष्ट्रपति डॉ. ए पी जे कलाम आजाद के आगमन प्रसंग के बारे में बतलाया।

सहायक अभियंता पोखराज पुरी गोस्वामी ने शोध अध्येताओं को छत्तीसगढ़ चौक होकर पहले आमचो बस्तर में निर्मित गोटूल, देवगुड़ी, जातरा, घानासार और आदिवासी समुदायों के रहवास तथा फिर सरगुजा प्रखंड के आवासीय संकुल सहित रामगढ़ की गुफाओं, सरगुजा राजमहल, डीपाडीह मंदिर और रजवार गृह के प्रदर्शों को दिखाया और उनके बारे में विस्तार से जानकारी दी।

समापन सत्र में परिचर्चा के दौरान राष्ट्रीय संग्रहालय नई दिल्ली से पधारे संग्रहालय विज्ञानी डॉ संजीब कुमार सिंह, नागपुर से पधारे मुद्राशास्त्री और अभिलेख शास्त्री डॉ. जी एस ख़्वाजा, कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से पधारे प्रो. एस के चहल, कोलकाता राज्य अभिलेखागार के पूर्व अधिकारी डॉ. आनंदा भट्टाचार्य और मैनपुर कॉलेज के प्रिंसिपल प्रो. ब्रज किशोर प्रसाद ने संगोष्ठी के संबंध में अपने अनुभव साझा किए और इसे भविष्य के अनुसंधानों के लिए बहुत उपयोगी बतलाया। सभी ने उपस्थित नई पीढ़ी के शोधार्थियों को प्रेरक संबोधन भी दिए। कृतज्ञता ज्ञापन डॉ. जे आर भगत उप संचालक ने किया और कार्यक्रम का संचालन प्रभात कुमार सिंह पुरातत्त्ववेत्ता ने किया। कार्यक्रम में डॉ. वृषोत्तम साहू, प्रवीन तिर्की, तापस बसाक, राजीव मिंज, समीर टल्लू, मुकेश जोशी, अरुण निर्मलकर एवं अन्य कर्मचारियों ने महत्वपूर्ण सहयोग प्रदान किया।

शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *