रायगढ़ पुलिस ने 48 घंटे के भीतर हत्या का मामला सुलझाया

रायगढ़।

18 अगस्त के सुबह जूटमिल पुलिस को सोनूमुडा में रहने वाले अगर दास पिता लाल दास उम्र 38 साल का शव उसके घर के समीप संदिग्ध अवस्था में पड़े होने की सूचना मिली । तत्काल वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशन पर सीएसपी रायगढ़ अभिनव उपाध्याय, प्रशिक्षु आईपीएस उदित पुष्कर, थाना प्रभारी कोतरारोड़, थाना प्रभारी जूटमिल निरीक्षक रामकिंकर यादव अपने स्टाफ के साथ मौके पर पहुंचे । शव के निरीक्षण पर मृतक के शरीर पर दिख रहे चोटों के निशान हत्या के अपराध को इंगित कर रहा था । मामले की गंभीरता को देखते हुये वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक श्री सदानंद कुमार द्वारा प्रशिक्षु आईपीएस श्री उदित पुष्कर को मामले की जांच हेतु निर्देशित किया गया ।

जूटमिल के सोनूमुडा में मिला था 38 वर्षीय व्यक्ति की उसके घर के पास लाश

उदित पुष्कर द्वारा जूटमिल पुलिस के साथ शव पंचनामा कार्यवाही कर शव को पोस्टमार्टम के लिए केजीएस भेजा गया, पुलिस पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रही थी । पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हत्या का मामला उजागर होने पर दिनांक 19.08.2023 को अज्ञात आरोपी पर हत्या का अपराध दर्ज कर जांच अधिकारी श्री पुष्कर द्वारा मृतक अगर दस के परिवारजनों एवं आसपास रहने वालों से पूछताछ कर जांच के दायरे को आगे बढ़ाये । मृतक से किसी के झगड़ा विवाद समेत अन्य सभी पहलुओं पर प्रशिक्षु आईपीएस द्वारा सूक्ष्मता से जांच की जा रही थी । उन्होंने मृतक अगर दास के घटना दिनांक 17.08.2023 की सभी गतिविधियों को अपने तरीके से चेक किया गया जिसमें कोई खास जानकारी निकलकर नहीं आयी । एक ओर पुलिस सीसीटीवी फुटेज चेक कर संदिग्धों से पूछताछ कर रही थी । तभी 17 अगस्त की रात क्षेत्र के दो किशोर बालकों को संदिग्ध अवस्था में देखे जाने के प्रमाण सामने आये । पुलिस तत्काल दोनों नाबालिक लड़कों को अभिरक्षा में लिया गया ।

आईपीएस उदित पुष्कर द्वारा दोनों संदेहियों से पृथक-पृथक वैज्ञानिक तरीके से पूछताछ करने पर दोनों अपराध स्वीकार कर घटना का वृतांत बताये । अपचारी बालकों ने बताया कि घटना दिनांक 17 अगस्त की रात्रि सोनूमुडा भक्तिडिपा जाने वाले रास्ते में पहले से चाकू लिये लूटपाट की नियत से खड़े थे । रात्रि अगर दास लड़खड़ाते आया जिसे लूटपाट की नीयत से रोके और उससे झगड़ा मारपीट कर अपने पास रखें चाकू से अगर दास के सीने, काख, पीठ में मारपीट कर चोट पहुंचाना और उसके मोबाइल को छीन कर भाग जाना बताये । जांच अधिकारी द्वारा घटनास्थल एवं अपचारी बालकों से मोबाइल एवं अहम साक्ष्यों की जप्ती कर आज दोनों विधि के साथ संघर्षरत बालकों को किशोर न्याय बोर्ड के अध्यक्ष के समक्ष पेश कर बाल संप्रेषण गृह रायगढ़ भेजा गया है । मामले का 48 घंटे के भीतर पटाक्षेप करने में प्रशिक्षु आईपीएस उदित पुष्कर के साथ थाना प्रभारी जूटमिल निरीक्षक रामकिंकर यादव, सहायक उप निरीक्षक शशि देव भोई एवं आरक्षक लखेश्वर पुरसेठ की अहम भूमिका रही है ।

शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *