गोठान में खीरे की खेती से महिलाएं हो रही आत्मनिर्भर

अम्बिकापुर

बतौली जनपद के आदर्श गोठान मंगारी में चम्पा स्व सहायता समूह की महिलाओं ने खीरा की खेती कर उसके बिक्री से 90 हजार 450 रुपए शुद्ध मुनाफा कमाया है। गोठान में मल्चिंग विधि से की गई की खेती से खीरा की बंपर पैदावार हुई जिससे महिलाओं ने अब तक 38 क्विंटल खीरा करीब 1 लाख 2 हजार रुपये का बेचा है।

मल्चिंग विधि से की गई खेती से खीरा की बंपर पैदावार, अब तक 38 क्विंटल की बिक्री

उप संचालक उद्यानिकी एनएस लावत्रे ने बताया कि मंगारी गोठान में बाड़ी विकास के तहत चम्पा स्व सहायता समूह की महिलाओं को ड्रिप इरिगेशन व मल्चिंग विधि से आलमगीर एवं क्रिष वेरायटी के खीरा की खेती हेतु आवश्यक तकनीकी मार्गदर्शन उद्यान विभाग एवं वैज्ञानिक डॉ प्रशांत शर्मा के द्वारा दिया गया।गोठान में करीब 75 डिसमिल में खीरे की खेती जुलाई माह में किया गया।कम समय में ही अच्छा उत्पादन शुरू होने से आस-पास के बाजार में मांग बढ़ी जिससे तेजी से बिक्री बढ़ी।
ज्ञातव्य है कि कलेक्टर  कुन्दन कुमार के मार्गदर्शन व जिला पंचायत सीईओ श्री विनय कुमार लंगेह के नेतृत्व में जिले के गोठनों को आजीविका केंद्र के रूप में विकसित किया जा रहा है। गोठान में सब्जी की खेती सहित अन्य आयमूलक गतिविधियां निरंतर संचालित हो रही है। कई गोठानों में हल्दी व शकरकन्द की खेती भी की जा रही है। रीपा के तहत औद्योगिक इकाइयों स्थापित की गई है जिसमें गोनायल, बोरा निर्माण, ब्रेड निर्माण, कच्ची घानी आदि कार्य चल रहे है।

शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *